Thursday, July 28, 2011

कराख रो तो जल भलो: मगर जल से रिश्ता फिर कैसे बने

राजेन्द्र बोड़ा

सदियों से राजस्थान के लोग पानी की कमी का सामना करते रहे हैं। एक तो यहां का गर्म जलवायु, दूसरी तरफ वर्षा की हमेशा कमी और तीसरे कोई बारहमासी नदी नहीं होना। साथ ही बड़ा भू भाग रेगिस्तानी या अर्द्धशुष्क। मगर प्रकृति से मिली ऐसी कठोर परिस्थितियों में भी यहां जो कला, संस्कृति, तथा जीवन शैली पल्लवित हुई और मानवीय मूल्यों का विकास हुआ वह अनोखा है। यहां के लोगों ने प्राकृतिक विपदा में भी अपने जीवन को उत्सव बनाया। अपने अनुभवों से उन्होंने प्रकृति से सहकार करना सीखा और पीढ़ी दर पीढ़ी अपने अनुभवों से नया ज्ञान पाने और उसे आगे बढाने की परंपरा डाली। जहां वर्षा के देवता इंद्र की मेहरबानी कम होती हो वहां संस्कृति, सामाजिक ढांचा और परंपरा कम पानी में गुजारा करना सिखाते हैं और वैसे ही मानवीय मूल्य प्रतिष्ठित करते हैं। राजस्थान के लोगों ने कभी पानी की कमी का रोना नहीं रोया। जितना प्रकृति ने दिया उसी को प्रसाद मान कर शिरोधार्य किया। हालांकि पानी की कमी से होने वाली मानवीय तकलीफें यहां के लोक गीतों और संगीत में गूंजी मगर वे दुःख के नहीं उत्सव के स्वर थे।

महाभारत युद्ध जब समाप्त सोने को होता है तब का एक प्रसंग लोक कथाओं में आता है। कहते हैं इस रेतीली धरती के लोगों को श्रीकृष्ण ने वरदान दिया कि उनके यहां कभी जल का अकाल नहीं रहेगा। यहां के लोगों ने अपने परिश्रम और बुद्धि से कृष्ण के उस वरदान को झूठा नहीं होने दिया। उन्होंने गांव-गांव, शहर-शहर वर्षा के जल को सहेज कर रखने के खोजे और उन्हें व्यावहारिक स्तर पर अपनी जीवन शैली का अंग बनाया। इसमें सबसे बड़ी खूबी यह थी कि मरू भू-भाग के भिन्न-भिन्न अंचलों में वहां की परिस्थितियों के अनुकूल जल संरक्षण की तकनीकें खोजी गईं और अपनाई गईं। आज जैसा नहीं हुआ कि कोई एक किताबी तकनीक सब जगह प्रचलित कर दी गई हो।

एक लोक कथा मारवाड़ में प्रचलित है जिसमें एक ज्ञानी और एक सरल ग्वाले के बीच संवाद है। ज्ञानी कहता है :

सूरज रो तो तप भलो/नदी रो तो जल भलो
भाई रो तो बल भलो/ गाय रो तो दूध भलो
चारूं बातों भले भाई/ चारूं बातों भले भाई

ज्ञानी रेगिस्तान में नदी की – किताबी ज्ञान – की बात करता है। रेगिस्तान में कभी नदी रही होगी यह किताबी ज्ञान है। उसका मरू प्रदेश के लोगों के जीवन में आज क्या महत्व। उसकी और बातें भी ऐसे ही किताबी है।

सीधा-सरल ग्वाला उत्तर देता है:

आंख रो तो तप भलो/कराख रो तो जल भलो
बाहु रो तो बल भलो/मां रो तो दूध भलो
चारूं बातों भले भाई/ चारूं बातों भले भाई

वह कहता है आंख रो तो तप भलो याने जीवन में अनुभव ही काम आता है। पानी कराख का मतलब कंधे पर लटकी सुराही का, बल अपनी भुजा का ही काम आता है। और दूध तो मां का ही श्रेष्ठ होता है।

मरुस्थल के सीधे सरल लोगों ने अपने अनुभव से जो सीखा उसे परंपराओं ने आगे बढ़ाया कि वर्षा के पानी की एक-एक बूंद कैसे सहेजी जाये और कैसे पानी के साथ खिलवाड़ नहीं किया जाये। एक छोटा सा उदाहरण इसे प्रमाण देता है। पहले जब जमीन पर बैठ कर भोजन करते थे तो पास में पड़े पानी के लोटे के ठोकर नहीं लग जाये इसकी सीख बार-बार बच्चों को दी जाती थी।

किताबी ज्ञान और अनुभव के तप में क्या फर्क है यह जानने के लिए मरुस्थल की जल संरक्षण की परंपराओं को देखना होगा। हमारा सारा आधुनिक किताबी ज्ञान हमें सबक देता है “बहता पानी निर्मला”। साफ और स्वस्छ पानी वही होता है जो बहता हुआ होता है। ठहरा हुआ पानी गंदा होता है।

मगर मरू समाज का परम्परागत जल संरक्षण का सैकड़ों वर्षों का इतिहास – अनुभव, या कहें आँख का तप, ठहरे पानी का गंदे होने का किताबी ज्ञान झुठला देता है। वर्षा के पानी को – जिसे मरू वासियों ने पालर पानी का नाम दिया – ठहरा कर कुई में, टांके में खडीन में, नाड़ी में सहेज कर अगली वर्षा होने तक अपना काम चलाया।

वैज्ञानिक कहते हैं कि मानव सभ्यता के ऐतिहासिक प्रमाणों की गणना के हजारों वर्ष पहले आज का जो मरू भूभाग है वहां कभी समंदर ठाटे मारता था। अनोखी बात यह है कि उस विशाल जल फैलाव “हाकड़ो” की स्मृति आज भी जन मानस में है। इसका जवाब वैज्ञानिकों के पास नहीं है कि हाकड़ो के सूख जाने के बाद यहां सभ्यता पनपी तो समंदर जन मानस की स्मृति में कैसे आया? डिंगल भाषा में समुद्र या सागर और उनके दर्जनों पर्यायवाची शब्द आते हैं।

सागर की अपनी इस स्मृति का जिक्र यहां की लोक कथाओं या लोक गीतों में विछोह के रूप में नहीं आता है। प्रकृति से शिकायत के तौर पर नहीं आता है। एक ऐसे सपने और विश्वास की तरह आता है कि फिर हाकड़ो का अस्तित्व बनेगा और संपन्नता आएगी :

हक कर बहसे हाकड़ो, बंद तुट से अरोड
सिंघड़ी सूखो जावसी, निर्धनियों रे धन होवसी
उजड़ा खेड़ा फिर बससी, भागियो रे भूत कमावसी
इक दिन ऐसा आवसी।

शोधकर्ता भले ही पिछले सौ बरसों से यह जानने की माथापच्ची करते रहें हों कि हाकड़ो समुद्र था या नदी थी। यदि नदी थी तो सिंधु नदी से या वैदिक सरस्वती नदी से उसका क्या संबंध बनाया जाय। मगर मरुस्थल के वासियों के मनों में हाकड़ो एक ऐसी याद है जिसके सहारे उन्होंने अपनी परिस्थितियों के अनुरूप पानी के संरक्षण की ऐसी जुगत की जो परंपराओं से निखरती गई।

मगर हमारा यह लोक-ज्ञान स्कूल कॉलेजों की किताबों में स्थान नहीं पा सका। देश के आज़ाद होने के बाद भी ‘लोक’ को हिकारत से पिछड़े की तरह देखा गया और नई पीढ़ियों को जो किताबों में पढ़ाया गया उसने हमारी इस लोक परंपरा की इबारत को पोंछ डाला। विकास की आधुनिक पाश्चात्य अवधारणा ने आज़ादी के बाद धीरे-धीरे उन सब परम्परागत जल संरक्षण की व्यवस्थाओं को नष्ट कर दिया और मरुस्थल को गरीब बना दिया। किफायत पर लालच हावी हो गया। यहां पर वे सब प्रयास किए गए जो यहां की माटी और प्रकृति के अनुरूप नहीं थे। प्रकृति पर विजय पा लेने के विचार का दंभ था।

वर्ष 1950-51 में पश्चिमी राजस्थान की करीब 78 लाख हेक्टेयर भूमि पर खेती होती थी। इसमें से 363 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में खेती सिंचाई से होती थी जो अधिकतर उसे उत्तरी भाग में नहरों से होती थी। शेष खेती वर्षा पर आधारित थी। खेती के लिए भूमिगत जल का उपयोग बहुत कम था जो क्यों कि तब बिजली या डीजल से चलने वाले पंप नहीं थे।
यह दृश्य पिछली सदी के सत्तर के दशक के शुरू में तब बादल गया जब सरकार ने ग्रामीण विद्युतिकरण को जबर्दस्त बढ़ावा देना शुरू किया। यह वह समय था जब पड़ोसी पंजाब में हरित क्रांति का परचम फैल रहा था। आधुनिक किताबी ज्ञान ने नीति निर्माताओं और निर्वाचित कर्णधारों ने मरू भूमि में भी ऐसी ही हरित क्रांति कर देने का सपना जगाया। वर्ष 1980 के आते राज्य का कृषि क्षेत्र बढ़ कर 10.09 मिलियन हेक्टेयर हो गया जिसमें से 1.39 मिलियन हेक्टेयर सिंचित क्षेत्र हो गया। वर्ष 2005 तक कुल कृषि क्षेत्र तो मामूली बढ़ कर 10.94 मिलियन हेक्टेयर हुआ मगर सिंचित क्षेत्र बढ़ कर 2.77 मिलियन हो गया। कह सकते हैं कि राजस्थान नहर जो आई। लेकिन राज्य के कुल सिंचित क्षेत्र का 43 प्रतिशत ही नहरी तंत्र से सिंचित होता है जबकि 57 प्रतिशत सिंचाई बिजली और डीजल से चलने वाले ट्यूबवैलों से पानी खींच कर भूगर्भ से होने लगी। इफ़रात की इस सिंचाई पद्धति में अच्छे प्रबंधन पर भी ध्यान देने की जरूरत नीति निर्माताओं ने नहीं समझी। आज राज्य में उपलब्ध पानी का 94 प्रतिशत उपयोग खेती के लिए होता है। पीने के पानी या घरेलू उपयोग के लोए पानी की खपत केवल चार प्रतिशत है।

प्रकृति ने इस धरती को कभी कृषि के लिए उपयोग में लाने की मंशा नहीं जताई। इसके बदले उसने यहां के लोगों के लिए चरागाहों, घनी झाड़ियों और बीच-बीच में ऐसे जंगलों की व्यवस्था की जहां विभिन्न प्रजाति के पेड़ों की सौगात दी जो रेत के धोरों को थामे रख सके। खेजड़ी, बबूल, कैर नीम, जाल, और बोरडी जैसे पेड़ों ने न केवल यहां प्राकृतिक दृश्यों की छटा बढाई बल्कि इंसान और जानवर दोनों के लिए उपयोगी भी बने। यहां प्रकृति ने जो बहुतायत में घास दी वह भरपूर पोषण करने वाली थी। मामूली पांच इंच वर्षा में वह पनप जाती है।

मगर सारे आगोर, चरागाह और घास की भूमि आधुनिक विकास की भेंट चढ़ गई। कृषि के अप्राकृतिक ज़ोर से भूमि के गर्भ के पानी का ऐसा दोहन शुरू हुआ कि आज पीने के पानी की त्राहि-त्राहि मची हुई है। जिस सीमा तक भूगर्भ का जल स्तर नीचे चला गया है। उसका सामान्य वर्षा से पुनर्भरण असंभव है।

आधुनिक विज्ञान के समझदार विशेषज्ञ अपने नए अध्ययनों में इस प्रकृति विरोधी विकास को रेखांकित करते रहे हैं। वे यहां घनी सिंचाई की व्यवस्था को रोकने, भूमि को कृषि से मुक्त करने, उसकी जगह फलों के बगीचे लगाने, पशुपालन को बढ़ावा देने, ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोत काम में लेने, और राजस्थान नहर के तंत्र को पीने के पानी के लिए उपयोग में लेने का सुझाव देते हैं। इसी के चलते तत्कालीन राजस्थान नहर मंत्री नरेन्द्र सिंह भाटी ने राजस्थान नहर परियोजना के दूसरे चरण में क्रांतिकारी बदलाव लाने के प्रस्ताव का एक नोट तैयार करके सार्वजनिक तौर पर जारी किया था। भाटी मारवाड़ क्षेत्र के ओसियां से विधानसभा में निर्वाचित सदस्य थे। उनका यह नोट पर आधुनिक किताबी ज्ञान वालों ने तो असहमति का रुख रखा मगर सदन में हुई चर्चा के दौरान मारवाड़ से आए सभी प्रतिनिधियों ने शासन से कहा कि वह इस पर ध्यान दे क्योंकि यही समझदारी का रास्ता है।

जोधपुर में स्थित केन्द्र सरकार के संस्थान एरिड ज़ोन रिसर्च सेंटर के वैज्ञानिक वर्षा के पानी को बड़े पैमाने पर सहेजने के उपाय सुझाते रहे हैं। मगर नीति निर्धारकों को उनकी राय को जानने और उस पर मनन करके काम करने की कभी फुर्सत नहीं मिली। उनके ये सुझाव इस धरती की परंपराओं को ही आगे बढ़ाने वाले है। परंपरा कभी ठहरती नहीं। नए अनुभव और ज्ञान की धाराएं उसमें मिलकर उसे समृद्ध बनाती है। धरती की कोख से जिस निर्ममता से हम पानी निकाल रहे हैं उसकी भरपाई के लिए वैज्ञानिक सुझाते हैं कि वर्षा में धरती पर बरसा पानी जो कैचमेंट एरिया से बह कर चला जाता है उसे सहेजने की जरूरत है। इसके लिए नई यंत्र तकनीकें भी वैज्ञानिकों ने विकसित की है। पता नहीं कब नीति निर्धारकों का ध्यान उधर जाएगा।

एक सच्चाई हमें समझनी होगी कि राजस्थान मूलतः शुष्क और अर्ध शुष्क मौसमी तंत्र का भाग है जहां वर्षा कम होती है और जहां कोई बारहमासी नदी नहीं बहती और थार रेगिस्तान में वर्षा का पानी ही पीने के पानी का प्राथमिक स्रोत है। यह समझ हमें हमारी परंपराओं से मिलती है। परंपराओं से कट कर विकास की अवधारणा ने हमारी बहुत सी समस्याओं को जन्म दिया है। जिस पंजाब को हमने रोल मॉडल माना वहां भी खेती आज संकट में है क्योंकि वहां भी लोग प्रकृति से अपनी रिश्तेदारी का लिहाज भूल गए।

विकास के जिस दौर से गुजर कर हम आज जहां पहुंच गए हैं वहां से कैसे लौटें और इस भूमि यहाँ के जलवायु की प्रकृति के अनुरूप कैसे अपना रास्ता बनायें यही यक्ष प्रश्न है।

('स्वर सरिता' के जुलाई 2011 अंक में प्रकाशित आलेख)

Tuesday, July 26, 2011

प्रवीणजी भाई साहब : आध्यात्मिक गहराई से लेखन करने वाले पत्रकार


राजेंद्र बोड़ा

राजस्थान के पत्रकार जगत में एक नाम अपनी अलग पहचान रखता है और विशिष्ठ स्थान भी रखता है। यह नाम है प्रवीण चंद छाबड़ा। अपने दोस्तों और सहयोगियों के बीच गहरे अपनत्व से प्रवीण जी भाई साहब के नाम से पुकारे जाने वाले प्रवीण चंद छाबड़ा उन पत्रकारों में से हैं जो देश की आज़ादी और वर्तमान राजस्थान के बनने से पहले से सामाजिक क्षेत्र और पत्रकारिता में सक्रिय हैं। यह हमारा सौभाग्य हैं कि पैसठ सालों की सक्रिय पत्रकारिता और सामाजिक क्षेत्र के कामों के अपने गहरे अनुभव रखने वाले प्रवीण जी भाई साहब का सानिध्य और आशीर्वाद आज उनके 82वें जन्म दिन पर हमें प्राप्त है।

प्रवीण जी भाई साहब ने राजस्थान का निर्माण होते हुए ही नहीं देखा है बल्कि उसके बनने की प्रक्रिया और उस के बाद से अब तक का समूचा राजनैतिक घटनाक्रम पत्रकार के रूप में बहुत नज़दीक से और बहुत गहराई से देखा है। इसीलिए आप नए राजस्थान बनने की राजनीतिक प्रक्रिया को समझने और उसे विश्लेषित करने की दृष्टि पाने में नयी पीढ़ी के पत्रकारों को रोशनी दिखाने में सक्षम हैं।

प्रवीण जी के लेखन में एक अद्भुत आध्यात्मिक गहराई है। इसलिए कई लोगों को लगता है जैसे वे अपनी बात सूत्रों में कह रहे हों। पत्रकारिता के लेखन से भी अधिक महत्वपूर्ण उनका भगवान महावीर और जैनत्व के विभिन्न आयामों पर उनका लेखन है जो उन्हें जैन दर्शन के अद्भुत मनीषी के रूप में उन्हें प्रतिष्ठित करता है। वास्तव में जैन धर्म और आद्यात्मिक विषयों पर अपने लेखन में वे जिस प्रकार और जितना गहरे उतरे हैं वह किसी सांसारिक व्यक्ति के लिए आसान नहीं है। मगर वे अपने लेखन में जितने गहरे और गंभीर होते हैं अपने सामान्य व्यवहार में उतने ही सरल, हर एक से दोस्ती कर लेने वाले होते है। उनके लिए कोई त्याज्य नहीं है। वे सबके साथ रहना चाहते हैं। मगर अपना अलग व्यक्तित्व भी चाहते है। वे उनमें नेतृत्व की अद्भुत क्षमता है और दूसरों के हित में हमेशा तत्पर रहते है। मगर समूह का नेतृत्व करते हुए भी बे सामान्य कार्यकर्ता के रूप में बने रहने का भी बड़ा आग्रह रखते है। यह अंतर्विरोध दूसरे नहीं समझ पाते। इसी अंतर्विरोध के कारण शायद उन्हें जो होना चाहिए वैसा नहीं हो पाते।


26 जुलाई 1930 को एक संभ्रांत जैन परिवार में जन्मे प्रवीण जी भाई साहब की साहित्य और राजनीति में शुरू से ही रुचि रही है। सन 1952 में आपने ‘जय भूमि’ अख़बार में उप संपादक के रूप में पत्रकारिता की यात्रा शुरू की जो अब तक अनवरत जारी है। 1953-54 में आपने साप्ताहिक ‘भारत’ का प्रकाशन और संपादन किया। 1954 में आप कलकत्ता चले गए जहाँ ‘दैनिक विश्वामित्र’ और दैनिक ‘लोकमान्य’ के सम्पादकीय विभागों में काम किया। 1956 में आप पुनः जयपुर आ गए और ‘लोकवाणी’ के उप संपादक और नगर संवाददाता रहे। 1974-75 में आप ‘समाचार भारती’ के जयपुर ब्यूरो प्रमुख बने और बाद में समाचार भारती के चंडीगढ़ और कलकत्ता के ब्यूरो प्रमुख रहे। आप राजस्थान पत्रिका के हरियाणा संस्करण 'हरियाणा पत्रिका' के संपादक भी रहे।

प्रवीण जी भाई साहब की रचनात्मक सामाजिक कार्यों में भी भरपूर रुचि रही है। आपके निश्छल और निष्पक्ष स्वभाव के कारण ही जैन समाज के प्रमुख मुनि देशभूषण जी ने आपको दिगंबर जैन समुदाय के अतिशय क्षेत्र चूलगिरी की व्यवस्थापन समिति का संरक्षक बनाया। ऐसी पुण्यवानी विरलों को ही मिलती है। आप जैन समाज की अन्य कई सामाजिक और शैक्षणिक संस्थाओं से जुड़े हैं। गांधी के दर्शन से सरोबार प्रवीण जी भाई साहब सर्वोदय साहित्य समाज जयपुर के संस्थापक सदस्य रहे है।

श्री छाबड़ा राजस्थान श्रमजीवी पत्रकार संघ के संस्थापक सदस्यों में से है और इसके महामंत्री रह चुके है। आपके नेतृत्व में पत्रकारों ने बड़ी-बड़ी लड़ाइयाँ लड़ी हैं। आप 1964 से 1969 तक भारतीय श्रमजीवी पत्रकार महासंघ की कार्यसमिति के सदस्य रहे तथा वर्तमान में आप महासंघ के सर्वसम्मति से निर्वाचित उपाध्यक्ष हैं। 1963 में विएना में आयोजित पत्रकारों के विश्व सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा रूस सहित कईं भूमध्य सागरीय देशो की यात्रा की और वहाँ की पत्रकारिता का अध्ययन किया।

आप द्वारा भगवान महावीर और जैन धर्म दर्शन पर लिखी पुस्तकें जैन साहित्य में प्रमुख स्थान रखतीं हैं। आपने अहिंसा पर एक वृहद ग्रंथ का संपादन भी किया जो अपने अंदर एक अनूठा उपक्रम हैं।

श्री प्रवीण चंद छाबड़ा अपने जीवन के 81 वर्ष पूरे कर 82 वें वर्ष में प्रवेश कर रहें हैं. इस मंगल अवसर पर राजस्थान के पत्रकारिता जगत के सभी साथियों की तरफ से यही मंगलकामना है कि आप शतायु हों। आपकी चिर बालपन की सौम्य शैली बनी रहे और हम सभी आपका मार्गदर्शन हमेशा पाते रहें।

राजधानी के पत्रकारिता जगत को उन्हीं के सक्रिय प्रयासों से प्रेस क्लब का तोहफा मिला। इस क्लब को बनाने में आपने सबसे अहम् भूमिका निबाही। उन्हीं की सक्रियता ने इस क्लब के सपने को हकीकत में बदला। उन्ही की बदौलत वे सारी प्रशासनिक बाधाएं पार की जा सकी जिससे क्लब के लिए मौजूदा स्थान सरकार से मिल सका। क्लब को अस्तित्व में लाने के लिए भिन्न मतों वालो को एक साथ बिठाना, क्लब का संविधान बनाना, उसे पंजीकृत कराना और उसके पहले खातों का आडिट कराना यह सारा काम आपने अपने प्रयत्नों से किया और पत्रकारों को इस क्लब की सौगात दी जिसके लिए लिए समूचा पत्रकार जगत उनका सदैव ऋणी रहेगा।

आपके जन्म दिन पर आज पत्रकार जगत उनके शतायु होने की मंगलकामना करता है।

(दैनिक समाचार पत्र 'सीमा संदेश' के 25 जुलाई 2011 के अंक में प्रकाशित)